RTO Officer कैसे बने? और आर. टी. ओ. ऑफिसर की Salary कितनी है?

How to Become an RTO Officer? – नमस्कार दोस्तों, स्वागत है आपका Techly360 हिंदी ब्लॉग में. और आज हम इस आर्टिकल में जानेंगे “RTO Officer Kaise Bane” के बारे में. साथ ही जानेंगे की एक आर. टी. ओ. ऑफिसर की Salary कितनी होती है.

एक सफल सरकारी अधिकारी बनने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ती है. अगर आप RTO Officer बनना चाहते हैं, तो इसके लिए भी आपको बहुत मेहनत करनी होगी. आज के लेख में, हम आपको RTO Officer बनने के तरीके के बारे में बताएंगे. किसी भी नौकरी पाने के लिए, Candidate के पास इससे संबंधित जानकारी होनी चाहिए, ताकि वह अच्छी तरह से तैयारी कर सके. इस Blog Post को पढ़ने के बाद, आपको पूर्ण ज्ञान प्राप्त होगा.

इन्हें भी पढ़े – SBI ATM (Debit) Card Block कैसे करे?

अधिकांश Students RTO के पद के लिए काम करने के इच्छुक हैं, लेकिन उचित मार्गदर्शन के अभाव में, वे इस पद को पाने में सक्षम नहीं हैं और RTO Officer बन जाते हैं. हमने यह लेख उन छात्रों की मदद करने के लिए लिखा है, ताकि वे अपनी जरूरत की जानकारी प्राप्त कर सकें. आइये जानते हैं कि आर. टी. ओ. अधिकारी कैसे बनें? इसका वेतन, योग्यता, कार्य, पद क्या है?

RTO Officer in Hindi, RTO Officer Kaise Bane, RTO Officer Ki Salary Kitani Hoti Hai, RTO Officer Qualification in Hindi, RTO Officer Full Form in Hindi

आरटीओ ऑफिसर क्या है – What is RTO Officer in Hindi

आरटीओ अधिकारी की अंग्रेजी में फुल फॉर्म “क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी” है. RTO Officer Ki Full Form In Hindi  “Regional Transport Office“ “क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय” है. क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय एक भारतीय सरकारी संगठन (Indian government organization) है. जो भारत के विभिन्न राज्यों के लिए ड्राइवरों के डेटाबेस के डेटाबेस को बनाए रखने के लिए जिम्मेदार है, इन्हें RTO Officers (आरटीओ अधिकारी) कहा जाता है.

Motor Vehicles विभाग की स्थापना मोटर वाहन अधिनियम 1988 की धारा 213 (1) के तहत की गई है. यह देश भर में लागू केंद्रीय अधिनियम है. मोटर वाहन विभाग इस अधिनियम के विभिन्न प्रावधानों को लागू करने के लिए जिम्मेदार है. यह विभाग परिवहन आयुक्त द्वारा आयोजित किया जाता है. प्रत्येक राज्य और शहर का अपना RTO – Regional Transport Office (क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय) है. प्रत्येक आरटीओ मोटर वाहन अधिनियम 1988 में निर्धारित कार्यों और गतिविधियों को पूरा करने के लिए जिम्मेदार है.

RTO Officer के कार्य क्या होते है?

यदि आप भी RTO Officer बनना चाहते हैं, तो आपको यह जानना होगा कि RTO Officer का काम क्या है? आर. टी. ओ. अधिकारी का काम क्या है? क्योकि किसी भी कार्य को करने से पहले हमेशा उस पद के बारे में और उस पद के कार्यो के बारे में जरुर जान लेना चाहिए.

इन्हें भी पढ़े – Corona Caller Tune कैसे बंद करे?

Driving license

RTO Department द्वारा प्रदान किया जाता है. यदि आप कोई भी वाहन चलाते हैं, तो आपको पता होगा कि ड्राइविंग के लिए लाइसेंस कितना महत्वपूर्ण है. ड्राइविंग लाइसेंस प्राप्त करने के लिए ड्राइविंग के कुछ परीक्षण हैं. जिन्हें पास करना है तो हमारा Driving License बन जाता है. इस लाइसेंस को बनाने का काम आरटीओ कार्यालय (RTO office) में ही किया जाता है.

Vehicle Registration

जब भी कोई व्यक्ति नया वाहन खरीदता है, तो उसे कानूनी आधार पर अधिकार प्राप्त करने के लिए वाहन पर पंजीकरण करना होता है. बिना नंबर प्लेट के गाड़ी चलाना गैरकानूनी है. वाहन का पंजीकरण करना आरटीओ के कार्यों में से एक है.

Pollution Test

वाहनों का प्रदूषण स्तर परीक्षण RTO द्वारा किया जाता है. अधिक प्रदूषण का कारण बनने वाले वाहनों का लाइसेंस रद्द कर दिया गया है.

Insurance

आरटीओ द्वारा बीमा कार्य (Insurance Work) भी किया जाता है. अगर आपको अपनी कार सुनिश्चित करनी है तो आपको RTO Office जाना होगा. अब आप सोच रहे होंगे कि आरटीओ अधिकारी को किस पद पर काम करना है.

इन्हें भी पढ़े – Top 10 Best Illegal Android Apps

RTO Office में कितने प्रकार के पद होते है?

जैसा की अब तक हमने इस RTO Officer के बारे में बहुत सी जानकारियां प्राप्त कर ली है. लेकिन अब बात आती है की इस RTO Office में कितने प्रकार के पद होते है? जिसमे अलग अलग RTO Officers काम करते है. तो मैं आपको बता दूँ की RTO ऑफिस में 3 प्रकार के मुख्य पद होते है. जो की निचे मैंने निम्नलिखित उपलब्ध करवाया है.

  • Clerical Or Clerk
  • (Sub) Assistant Engineer Post
  • Judicial Post

आरटीओ ऑफिसर कैसे बने – How to Become an RTO Officer in Hindi

वाहनों का पंजीकरण भारत सरकार के एक विभाग द्वारा किया जाता है और यह आरटीओ अधिकारी होता है. RTO Officer बनने के लिए आपको कुछ RTO Officer (आरटीओ अधिकारी) पात्रता को पूरा करना होगा.

RTO Officer के पद के लिए प्रत्यक्ष चयन नहीं किया जाता है, इसके लिए आपको पहले आरटीओ या आईवीएम (RTO or IVM) के पद के लिए चयन करना होगा. कुछ वर्षों के बाद, पदोन्नति आरटीओ के पद पर नियुक्त की जाती है. तो चलिए आपको विस्तार से बताते हैं. अब, हमें आपके लिए बनने के लिए क्या आवश्यकताएं (Requirements for RTO Officer) हैं? विस्तार से बताते हैं.

आर. टी. ओ. ऑफिसर बनने के लिए योग्यता – Qualification to Become an RTO Officer

जैसा की आपको पहले से ही पता होना चाहिए की किसी भी सरकारी या निजी पदों के लिए आवेदन करने से पहले उस पद के लिए योग्यता होना जरुरी होता है. ठीक उसी प्रकार से जब आप RTO Officer (आरटीओ ऑफिसर) बनने के लिए आप आवेदन करते है. तो उसके लिए क्या क्वालिफिकेशन (Qualification to Become an RTO Officer) है. निचे मैंने आपके साथ साझा किया है.

  • RTO Officer आवेदनकर्ता कम से कम 10 वी पास होना चाहिए.
  • अगर आप RTO Office में बड़े पदों पर RTO Officer बनना चाहते है तो आपका Graduation पास होना जरुरी है.
  • RTO Officer बनने के लिए महिला और पुरुष (Male and Female) दोनों आवेदन क्र सकते है.
  • सरकारी नियम के अनुसार RTO Officer पद के लिए आवेदनकर्ता की उम्र 21 वर्ष से 30 वर्ष के बिच होना चाहिए.
  • जाति आरक्षण के अनुसार OBC Candidates 3 वर्ष और ST/SC Candidates 5 वर्ष लगातार आवेदन कर सकते है.

RTO Officer बनने का Process (प्रक्रिया)

अगर आप एक आरटीओ अधिकारी बनना चाहते है. तो इसके लिए आपको कुछ प्रोसेस से गुजरना होता है. जिसके लिए सबसे पहले आपको आरटीओ अधिकारी पद के लिए ऑनलाइन या ऑफलाइन आवेदन करना होता है. इसके बाद आपको RTO Officers बनने के लिय Exam यानि परीक्षा देनी होती है. शायद आपको कम से कम 2 परिक्षाए देनी हो सकती है. परीक्षा पास करने के बाद अब बारी है Interview की. जब आप इन सभी Process को पूरा कर लेते है. तब आप एक RTO Officer बन जायेंगे.

RTO Officer Exam के लिए जरुरी Syllabus

एक आरटीओ अफसर बनने की एक कड़ी प्रक्रिया भी होती है. और जैसा की मैंने आपको बताया है की एक आर. टी. ओ. ऑफिसर बनने के लिए हमे RTO Exam पास करना होता है. और जाहिर सी बात है की हमे इस परीक्षा के लिए जरुरी पढाई भी करनी होती है. तो इसके लिए आपको पहले ये जानना जरुरी है की RTO Officer Exam के लिए जरुरी Syllabus कौन कौन सी है. तो निचे मैंने आपके लिए इसकी सम्पूर्ण जानकारी उपलब्ध करवाया है.

खास करके आर. टी. ओ. ऑफिसर (R.T.O. Officer) की परीक्षाओ के लिए हमे जमकर तैयारी करनी होती है. और इसमें हम खास करके 4 विषयों पर बहुत ही ज्यादा ध्यान देने की जरूरत होती है.

  1. General Knowledge
  2. General State Language
  3. General English
  4. General Subject

RTO Officer बनने के लिए Written (लिखित) परीक्षा

अगर आपने आरटीओ ऑफिसर बनने के लिए आवेदन किया है. तो अब आपको लिखित परीक्षा (Written Examination) देनी होगी. जिसमे आपको 2 घंटे का Test लिया जाएगा. जो परीक्षा पत्र (Paper) 200 Marks की होगी. वही आपको इस परीक्षा में विभिन्न प्रकार के सवाल (Questions) आपके सामने रखे जायेंगे. जो की निचे निम्नलिखित उपलब्ध करवा दिया गया है. जिस टॉपिक से आपको सवाल परीक्षा में दिए जायेंगे.

  • National and International Current Events
  • History of Indian Geography
  • Economic and Social Development
  • Environment and Ecology
  • General Science
  • English Language

RTO ऑफिसर बनने के लिए Physical Test

RTO Officer लिखित परीक्षा के बाद आपका शारीरिक परीक्षण (Physical Test) होता है. इसके लिए फिजिकल टेस्ट पास करना होता है. किसी भी नौकरी में पद के अनुसार शारीरिक परीक्षण और चिकित्सा परीक्षण का मानक निर्धारित किया जाता है. ताकि उम्मीदवार की शारीरिक क्षमता की जांच करना संभव हो सके. यदि आप सुरक्षा से संबंधित नौकरी के लिए आवेदन कर रहे हैं, तो शारीरिक परीक्षण का मानक और चिकित्सा परीक्षण (Medical Test) अलग है और यदि आप अन्य पद के लिए आवेदन कर रहे हैं तो इसका मानक अलग है.

शारीरिक परीक्षण और एक चिकित्सा परीक्षण के माध्यम से, उस विभाग या संस्थान को आपको अयोग्य घोषित करने का पूर्ण अधिकार है. इसलिए, आवेदक को इसे पास करने की आवश्यकता है. शारीरिक परीक्षण माप प्रक्रिया लड़की या लड़के में किसी भी भिन्नता से मेल खाती है. जैसे कि लंबाई, छाती आदि और आप जानते हैं कि पुरुष / महिला के शारीरिक परीक्षण में अंतर होता है. पुरुष उम्मीदवार को सभी मानदंडों को पूरा करना होता है, जबकि महिला की छाती में विराम होता है.

RTO ऑफिसर बनने के लिए Medical Test

आरटीओ मेडिकल टेस्ट (RTO Medical Test) में, आपके घुटने, पैर फ्लैट, अंगूठे में हेलिक्स, हड्डियों में असमानता, पैर धनुषाकार, जोड़ों में कहीं भी असामान्यताएं, छाती नहीं घुसना, उभड़ा हुआ और स्वस्थ मांसपेशियों, उम्मीदवार का अच्छा मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य. सुनने की क्षमता, आंखें कलर ब्लाइंडनेस या रंग कालापन से मुक्त होना चाहिए, दूर की आंखें और आंखें सामान्य हैं, आंखों को हल्की रोशनी में कोई समस्या नहीं होनी चाहिए. परीक्षा के समय, आपके प्रत्येक अंग के मानक डॉक्टर के पास उपलब्ध होते हैं, जो आपको अयोग्य घोषित करता है या योग्य बनाता है.

RTO Officer बनने के लिए Interview

दोनों परीक्षाओं को पास करने के बाद, आपके पास एक साक्षात्कार होगा. विभाग द्वारा गठित समिति के समक्ष एक साक्षात्कार किया जाना है. आपको गुणवत्ता के आधार पर जांचा जाता है और आपसे कुछ प्रश्न पूछे जाते हैं. जिसमें व्यक्ति की मानसिक जांच भी की जाती है. यदि उम्मीदवार इसे पास करता है, तो उसका चयन किया जाता है.

साक्षात्कारकर्ता क्या जानना चाहता है? वह जानना चाहता है कि आप इस पद को लेकर कितने गंभीर हैं या इस नौकरी में आपकी कितनी दिलचस्पी है. इसलिए, हमें सही तरीका अपनाना चाहिए ताकि हम साक्षात्कार को पास कर सकें. आपके मन में यह सवाल भी आया होगा कि RTO Officer को कितनी सैलरी मिलती है?

RTO Officer की सैलरी (Salary) कितनी होती है?

कोई फर्क नहीं पड़ता कि नौकरी (Job) क्या है? हम पहले उसका वेतन जानना चाहते हैं और इस नौकरी से हमें कितना वेतन मिलेगा. हां, आरटीओ अधिकारी के वेतन में कई रैंक शामिल होते हैं और यह आरटीओ अधिकारी रैंक के अनुसार भिन्न होता है. RTO Officer का वेतन बहुत अच्छी तरह से प्राप्त होता है, और 20,000 से 40,000 रुपये तक होता है.

वैसे आपको बता दूँ की अगर आपको एक बार आरटीओ ऑफिसर की नौकरी मिल जाती है, तो आपको चिंता की कोई जरुरी नही है. क्योकि धीरे धीरे आप अच्छे काम करते जायेंगे और आप RTO Officers की उच्चतम पद की प्राप्ति भी कर पाएंगे. जिसके पश्चात् आपकी Salary भी पद के हिसाब से बढ़ जाएँगी.


निष्कर्ष – So दोस्तों आपको यह RTO Officer कैसे बने? और आर. टी. ओ. ऑफिसर की Salary कितनी है? की आर्टिकल कैसा लगा. निचे कमेंट करके जरुर बताये. साथ ही इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर जरुर करे.

Leave a Comment

Copy link