[Ans.] रीतिकाल की समय सीमा क्या है?

खड़ी बोली गद्य की प्रथम रचना क्या है – नमस्कार दोस्तो! स्वागत हैं आपका Techly360.com हिन्दी ब्लॉग में. और आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे Ritikal Ki Samay Seema Kya Hai तो अगर आपके मन मे भी यही सवाल चल रहा था, तो इस सवाल का जवाब मैंने नीचे उपलब्ध करवा दिया हैं.

दोस्तों आप लोगों मे से बहुत सारे दोस्तों ने इस सवाल का जवाब जानने के लिए गूगल असिस्टेंट से जरूर पूछा होगा की “ओके गूगल रीतिकाल की समय सीमा क्या है”? या “रीतिकाल कब से कब तक माना जाता है” और गूगल असिस्टेंट ने इस सवाल से जुड़ी कई और सवाल और उसका उत्तर आपके साथ साझा करता हैं.

क्या, कैसे, कहाँ, क्यों, है, आदि, जाने

रीतिकाल की समय सीमा क्या है / Ritikal Ki Samay Seema Kya Hai?

दोंस्तों! आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने रीतिकाल का समय 1700 – 1900 वि. संवत माना है. रीतिकाल, भारतीय साहित्य की एक महत्वपूर्ण काव्यशास्त्रीय धारा है जो मध्यकाल के उत्तरार्ध से आरंभ होकर अवधि रचती है. यह काव्यशास्त्रीय धारा प्राकृत, ब्रज भाषा, अपभ्रंश और अवधी भाषा में रचे गए काव्यों को सम्मिलित करती है. रीतिकाल के समय भारतीय साहित्य में भक्ति और सृजनशीलता के अद्वितीय रूपों का विकास हुआ.

इन्ही से संबंधित खोजें गए प्रश्न

रीतिकाल की समय सीमा क्या है – ritikal ki samay seema kya hai
रीतिकाल कब से कब तक माना जाता है – ritikal kab se kab tak tha mana jata hai
रीतिकाल कितने प्रकार के होते हैं – ritikal kitne prakar ke hote hain
रीतिकाल की शुरुआत कब हुई – ritikal kis shuruaat kab hui
रीतिकाल की समय सीमा बताइए – ritikal ki samay seema bataiye


निष्कर्ष दोस्तों आपको यह “रीतिकाल की समय सीमा क्या है – Ritikal Ki Samay Seema Kya Hai का आर्टिकल कैसा लगा? निचे हमे कमेंट करके जरुर बताये. साथ ही इस पोस्ट को अधिक से अधिक शेयर जरुर करे.