न्यूलैंड का अष्टक नियम क्या है?

न्यूलैंड का अष्टक नियम क्या है – नमस्कार दोस्तो! स्वागत हैं आपका Techly360.com हिन्दी ब्लॉग में. और आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे Newland Ka Ashtak Niyam Kya Hai तो अगर आपके मन मे भी यही सवाल चल रहा था, तो इस सवाल का जवाब मैंने नीचे उपलब्ध करवा दिया हैं.

दोस्तों आप मे से बहुत सारे दोस्तों ने इस सवाल का जवाब जानने के लिए गूगल असिस्टेंट से जरूर पूछा होगा की “ओके गूगल, न्यूलैंड का अष्टक नियम क्या है”? या “न्यूलैंड का अष्टक नियम में कितने तत्व”? और गूगल असिस्टेंट आपको इस सवाल से जुड़ी कई और सवाल और उसका उत्तर आपके साथ साझा करता हैं.

क्या, कैसे, कहाँ, क्यों, है, आदि, जाने

न्यूलैंड का अष्टक नियम क्या है?

दोस्तों! कहा जाता हैं की, न्यूलैंड के अष्टक नियम के अनुसार हर आठवां तत्व पहले तत्व के गुणधर्म के बराबर है. साल 1864 में वैज्ञानिक जॉन एलेक्जैंडर न्यूलैंडस ने जब रासयनिक तत्वों को बढ़ते क्रम में उनके परमाणु भार के अनुसार व्यवस्थित किया, तब उन्हें समझ आया की हर 8वां तत्व पहले तत्व के अनुसार ही गुण रखता है.

इन्ही से संबंधित खोजें गए प्रश्न

न्यूलैंड का अष्टक नियम क्या है – newland ka ashtak niyam kya hai
न्यूलैंड का अष्टक नियम का अंतिम तत्व – newland ka ashtak niyam ka antim tatva kya hai
न्यूलैंड का अष्टक नियम कब दिया था – newland ka ashtak niyam kab diya tha
न्यूलैंड का अष्टक नियम लिखिए – newland ka ashtak niyam likhiye
न्यूलैंड का अष्टक नियम का उदाहरण – newland ka ashtak niyam ka udaharan
न्यूलैंड का अष्टक नियम की क्या सीमाएँ हैं – newland ka ashtak niyam ki kya seema hai
न्यूलैंड का अष्टक नियम की सीमाएं क्या है – newland ka ashtak niyam ki simaye kya hai


निष्कर्ष दोस्तों आपको यह “न्यूलैंड का अष्टक नियम क्या है – Newland Ka Ashtak Niyam Kya Hai का आर्टिकल कैसा लगा? निचे हमे कमेंट करके जरुर बताये. साथ ही इस पोस्ट को अधिक से अधिक शेयर जरुर करे.