Techly360.jpg

Google Core Web Vitals के CLS Issue को ठीक कैसे करें? सबसे आसान और कारगर तरीका!

नमस्कार दोस्तो! स्वागत है आपका Techly360 ब्लॉग में। तो आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले है Google Core Web Vitals” के बारे में। और हम इस गूगल कोर वेब वाइटल्स के CLS Issue को कैसे Fix कर सकते है? So बने रहिये इस Article में और जानिए पूरे Details में।

Blogging करना जितना आसान लगता है| उससे कही ज्यादा ब्लॉग्गिंग के अन्दर राज छुपे हुए है| अगर आप एक ब्लॉगर है और ब्लॉग्गिंग करते है| तो आपको पता ही होगा की गूगल अपने पब्लिशर के लिए कुछ दिनों के अन्तराल पर नये नये अपडेट्स लाता रहता है|

इन Google Core Updates से बहुत से Bloggers और या उनके Blogs को फयदा भी होता है| वही गूगल के अपडेट के कारण बहुत सारे bloggers को निराशा भी होती है| क्योकि अपडेट के कारण उनके ब्लॉग पर बुरा प्रभाव पड़ता है|

गूगल कोर वेब वाइटल्स क्या है? (Google Core Web Vitals in Hindi)

Core Web Vitals

जैसा की मैंने आपको उपर ही बता दिया है की गूगल अपने पब्लिशर्स के लिए नये नये updates लाता रहता है| तो अब आपके मन में ये सवाल उठ रहा होगा| की आखिरकार इतने जल्दी जल्दी अपडेट देने का क्या फायदा है? तो मैं आपको बता दूँ की Google अपने Users को Fast एक्सपीरियंस के साथ Exact Result उपलब्ध कराना चाहता है|

तो ऐसे में गूगल ने हाल में ही Google Web Vitals के नाम से एक अपडेट लांच कर दिया है| इस अपडेट से websites को फिल्टर किया जाता है| इस अपडेट का खास मकसद वेबसाइट स्पीड को लेकर है| क्योकि गूगल के एक नये blogpost के अनुसार गूगल अब उन्ही Articles को Top 10 में रैंक करवा रहा है|

जिस वेबसाइट की स्पीड फास्ट होती है| यानि की अब आपको अपने वेबसाइट स्पीड को अधिक से अधिक ऑप्टिमाइज़ करना होगा| ऐसे में वेबसाइट स्पीड को इम्प्रूव करने के लिए Google ने AMP भी लांच कर दी है| जिससे की आपको वेबसाइट स्पीड मोबाइल में 90+ हो जाएगी| और गूगल खुद भी इसे रेकोमेंड करता है|


इन्हें भी पढ़े-


गूगल कोर वेब वाइटल्स के प्रकार (Type of Google Web Vitals)

तो हमने अब तक इस गूगल कोर वेब वाइटल्स के बारे में काफी जानकारियाँ प्राप्त कर ली है| ऐसे में अब मैंने सोचा की क्यों ना आपको इस गूगल कोर वेब वाइटल्स के प्रकार के बारे में बताया जाये| तो मैं आपको बता दूँ की इस Web Vitals को 3 भागो में बाटा गया है| जिसके बारे में मैंने निचे आपको बताया है|

वैसे अगर आप एक ब्लॉगर है तो आपो इन सभी चीजों की जानकारियाँ होना बहुत ही जरुरी है| क्योकि एक ब्लॉग को सही और सुचारू तरीके से संचालित करने के लिए हमे अपने ब्लॉग को अच्छे से ऑप्टिमाइज़ करना चाहिए| तो मैं आपको बता देना चाहता हूँ की गूगल कोर वेब वाइटल्स आपको Google Search Console (Google Web Master Tool) में बाये तरफ लिस्ट में देखने को मिल जाता है| जिसे स्पीड मीटर से दर्शाया गया है|

Google Core Web Vitals

1. Cumulative Layout Shift (CLS)

So दोस्तों अब मैं आपको इस कोर वेब वाइटल्स के पहले प्रकार CLS के बारे में बताता हूँ| इस CLS का पूरा नाम Cumulative Layout Shift है| इसके अनुसार आपके वेबसाइट के पेज स्पीड 0.1 से भी कम होनी चाहिए तब जाकर CLS आपके वेबसाइट को बनाये रखने में मदद करता है|

2. First Input Delay (FID)

अब हम जानेंगे वेब वाइटल्स के दुसरे प्रकार FID के बारे में| तो FID का पूरा नाम First Input Delay होता है| अगर बात करे FID की तो यह वेबसाइट के अंतरक्रियाशीलता को नापने के काम में आता है| इसके अनुसार वेबसाइट को उपयोगकर्ता द्वारा अच्छा अनुभव प्रदान करने में मदद करता है| इसके अनुसार पेज स्पीड 100 मिली सेकंड से कम FID होना अतिआवश्यक है|

3. Largest Contentful Paint (LCP)

तो अब बात करते है इस गूगल कोर वेब वाइटल्स के तीसरे और अंतिंम प्रकार LCP के बारे में| तो इस LCP का पूरा नाम Largest Contentful Paint है| यह LCP हमारे वेबसाइट के Loading Speed को दर्शाता है| इसकी मदद से भी Users को एक अच्छा अनुभव मिलता है| एलसीपी को 2.5 मिलिसेकंड के निचे ही होना चाहिए|

Google Core Web Vitals के CLS Issue को Fix कैसे करें?

So दोस्तों अब हम बात करते है इस Google Core Web Vitals के CLS Issue को Fix कैसे करें? क्योकि आजकल जो नये ब्लोग्गेर्स होते है| और जब ये लोग सर्च कंसोल में साईट को सबमिट करते है| उसके बाद कोर वेब वाइटल्स में उनको सबसे बड़ी प्रॉब्लम CLS इशू को लेकर होता है| तो मैंने निचे बताया है की कैसे फिक्स कर सकते है|

1.Mobile Friendliness – यानि की सबसे पहले आपको अपने वेबसाइट को मोबाइल फ्रेंडली बनाना होगा|

2. Safe Browsing – इसके लिए आपको किसी सुरक्षित ब्राउज़र में अपने वेबसाइट को ओपन करके चेक करना होगा|

3. HTTPS Security – अगर आपका वेबसाइट पेज Secure है तो HTTPS Connection आपको दिखा जाता है| और एक Lock Icon भी दिखेगा|

निष्कर्ष – आपको यह Google Core Web Vitals Ke CLS Issue Ko Thik Kaise Kare? in Hindi! का आर्टिकल कैसा लगा।आप नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताएं।या किसी प्रकार का Suggestion देना भी चाहते है तो आप नीचे Comment Box में अपनी राय हमारे साथ Share कर सकते है।

Google Core Web Vitals के CLS Issue को ठीक कैसे करें? सबसे आसान और कारगर तरीका!

4 thoughts on “Google Core Web Vitals के CLS Issue को ठीक कैसे करें? सबसे आसान और कारगर तरीका!”

Leave a Comment

Share via
Copy link